ब्रेकिंग
बिलासपुर: पावर लिफ्टर निसार अहमद एवं अख्तर खान रविंद्र सिंह के हाथों हुए सम्मानित बिलासपुर: भाजपा पार्षद दल ने पुलिस ग्राउण्ड में जिला प्रशासन से रावण दहन की मांगी अनुमति बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव का सक्ति और ऋचा सिंह का रायगढ़ हुआ ट्रांसफर बिलासपुर: आरोपी अमित भारते, जितेंद्र मिश्रा और संदीप मिश्रा को नहीं पकड़ पा रही है SSP पारूल माथुर की... बिलासपुर: कलेक्टर सौरभ कुमार ने सरकार हित में सरकारी जमीन बचाने वाले अधिवक्ता प्रकाश सिंह के साथ किय... बिलासपुर: उस्लापुर के रॉयल पार्क में नजर आएगी गरबा की धूम, थिरकने के लिए तैयार हैं शहरवासी बिलासपुर: कार्य की धीमी गति पर कंपनी के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी की जानी चाहिए थी कार्यवाही, स... बिलासपुर: महादेव और रेड्डी अन्ना बुक के सटोरियों पर पुलिस की बड़ी कार्यवाही बिलासपुर: जूनी लाइन स्थित सुरुचि रेस्टोरेंट के पास रहने वाले कृष्ण कुमार वर्मा के बड़े बेटे श्रीकांत ... बिलासपुर में UP65/ EC- 4488 नँबर की कार से जब्त हुए 5 लाख नकद

आदिवासी समुदाय का विरोध, कहा- भाजपा ने स्वर्ग से सुंदर बस्तर को नरक से बद्तर बनाया,  27 जिलों में 28 को करेंगे सत्ता परिवर्तन संदेश यात्रा

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के 15 साल के शासनकाल में बस्तर से लेकर सरगुजा तक आदिवासी समाज भय, शोषण, अन्याय, अत्याचार, बलात्कार, कुपोषण और पलायन का शिकार हुआ है। न्याय का सिद्धांत कहता है कि किसी भी देश की न्याय व्यवस्था में भले ही 10 अपराधी दंड पाने से बच जाए, लेकिन किसी एक गुनहगार को सजा नहीं होनी चाहिए। लेकिन भाजपा सरकार छत्तीसगढ़ में इसके उल्टा चाल में है। नक्सलवाद उन्मूलन के नाम पर रमन सरकार ने स्वर्ग से सुंदर बस्तर को नर्क से बदतर बना दिया है। किसी एक माओवादी को पकड़ने के लिए 50,000 से अधिक सुरक्षा बलों को बस्तर के जंगलों में तैनाती। आदिवासी जीवन को तहस-नहस करने की भाजपाई मानसिकता अब आदिवासी समाज समझ चुका है।भाजपा सरकार माओवाद के बहाने आदिवासियों के जल, जंगल, जमीन के स्वामित्व को समाप्त कर अडानी, अंबानी, टाटा, वेदांता को देना चाहती है। आदिवासी छत्तीसगढ़ विकास परिषद प्रदेशाध्यक्ष के.आर शाह ने आक्रोश जताते हुए यह बातें आज प्रेस वार्ता के दौरान कही।

प्रेस वार्ता में अध्यक्ष के.आर शाह ने कहा कि रमन सरकार ने 5 माह पहले विधानसभा में भूमि अधिग्रहण से संबंधित भू-राजस्व संहिता में संशोधन किया था। इसके द्वारा सरकार आदिवासियों की भूमि को खरीदना बेचना चाहती थी। जिसका पूरे राज्य में भारी विरोध किया गया। भूमि अधिग्रहण बिल को विधानसभा में पारित करने से स्पष्ट हो गया है कि रमन सरकार आदिवासियों के साथ ना सिर्फ चल कर रही है बल्कि विकास की आड़ में आदिवासी अस्तित्व को समाप्त करना चाहती है। मुख्यमंत्री द्वारा अटल विकास यात्रा निकालकर जनता की गाढ़ी कमाई बर्बाद की गई है। भाजपा सरकार ने 22 अरब की बड़ी धनराशि मोबाइल में खर्च कर मानसिक दिवालियापन का परिचय दिया है। श्री शाह ने कहा कि मात्र 500 करोड़ रुपए जगदलपुर मेडिकल कॉलेज व जिला चिकित्सालय पर खर्च किए जाते तो बस्तर को एक शानदार सुपर स्पेशलिटी अस्पताल मिल जाता। इसी प्रकार सिम्स मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल, अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल, रायगढ़ मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल में खर्चा किया जाता तो गरीब जनता को स्वास्थ्य सुविधाएं मिलती।

उन्होंने बताया कि सलवा जुडूम के बाद उजड़े आदिवासी परिवार 13 वर्षों के बाद भी राहत शिविरों में रह रहे हैं। 13 वर्षों में भाजपा सरकार लगभग 32,000 आदिवासियों के गांव को आबाद नहीं कर पाई। इसका सही जवाब डॉक्टर रमन सिंह आदिवासी समाज को नहीं दे सकते। राज्य सरकार अपने 3 बार के पंचवर्षीय कार्यकाल में विशेष भर्ती अभियान। बैकलॉग पदों की पूर्ति एवं शिक्षित बेरोजगार के लिए व्यवसायिक योजनाओं को मूर्त रूप देने में पूरी तरह से असफल हुई है। दूसरी तरफ फर्जी आदिवासियों को सेवा से बर्खास्त करने की वजह संरक्षण देती आ रही है। नक्सलवाद के नाम पर सैकड़ों युवक-युवती फर्जी मुठभेड़ में मार दिए गए। हजारों आदिवासी, हजारों बेगुनाह जेल में बंद है। और सरकार आदिवासी होने का दावा करती है। अध्यक्ष श्री शाह ने बताया कि भाजपा सरकार को हटाने के लिए आदिवासी विकास परिषद राज्य के 27 जिलों में सत्ता परिवर्तन संदेश यात्रा निकालेगी। यात्रा का शुभारंभ 28 अक्टूबर को राजधानी रायपुर से किया जाएगा। इसके माध्यम से 15 वर्षों में आदिवासी समाज सहित पूरे प्रदेश में दलित व पिछड़े वर्ग जातियों ने क्या क्या खोया इसकी जानकारी से लोगों को अवगत किया जाएगा। “भाजपा हटाओ आदिवासी बचाओ” अभियान के तहत कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए समर्थन देंगे और भाजपा को सत्ता से बाहर करेंगे।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9977679772